Monday, April 21, 2008

क्‍या ये वीडियो दिखाना मेरे प्रशंसक अधिकार के बाहर जाता है ?

आप भी कहेंगे कि मास्‍साब आप तो ऐसे क्रिकेट फैन कभी न दिखे फिर भला इस मैच का वीडियो कैप्‍चर करने की और फिर अपलोड करने की जहमत क्‍योंकर उठाई। मैच सबने टीवी पर देख ही लिया है बीस मिनट हुए मैच खत्‍म हुए, कोई मैच दिखा नहीं रहा, शरद पवार का बोर्ड अकड़ा पड़ा है कि खबरदार अगर किसी पत्रकार ने 3-4 से ज्‍यादा फोटो लिए तो और उन पर भी बोर्ड का हक होगा। बेवसाइट या ब्‍लॉग वालों को तो इतना करने का भी हक नहींदिया अगलों ने।

तो भई हम ये पंगा इसलिए ही ले रहे हैं। समझिए हमारा प्रतिरोध है बोर्ड के इस बॉंह-मरोड़ व्‍यवहार के खिलाफ। हमारे हिसाब से क्रिकेट चाहे वह 20-20 टाईप उजड्ड क्रिकेट ही क्‍यों न हो वह पूरी तरह क्रिकेट प्रेमियों का ही है तो उससे कमाओ जितना चाहे पर ऐसी ऑंख न तरेरो कि हम इस तरफ  देख ही न पाएं।

खैर मैच वानखेडे़ स्‍टेडियम में बंगलौर की रायल चैलेंजर व मुंबई की मुंबई इंडियन के बीच हुआ जिसे बंगलौर ने जीता। ये वीडियो बंगलौर की पारी के मुख्‍य अंश हैं।

 

 

6 comments:

अविनाश said...

ये मामला सुलझ चुका है मसिजीवी जी। आईपीएल सीरीज़ के प्रायोजक डीएलएफ ने मीडिया वालों और आईपीएल के बीच मध्‍यस्‍थता की। अब तस्‍वीरें उतारने और उसके इस्‍तेमाल पर कोई पाबंदी नहीं है। और ये मामला सीरीज़ शुरू होने से दो दिन पहले ही ख़त्‍म हो गया। इसलिए आपकी ये पोस्‍ट अप्रासंगिक हो गयी है।

अल्पना वर्मा said...

yahan is ka prasarn nahin hua aur hum in khelon ko dekhne se vanchit hain--isliye clip dikhane ka shukriya.

सुजाता said...

लो , महंत जी ने कै दई कि पोस्ट आप्रास्ंगिक है तब्बो नई मान रहे हो मसिजीवी ! मिटा डालो येह पोस्ट ,डिलीट कर दो ।

Udan Tashtari said...

सब खत्म?? लाईये अगली पोस्ट.

masijeevi said...

ले आए, जाओ पढ़ो और कमेंट करो :)

वैसे वाकई एनडीटीवी के लिए मामला सुलट गया पर बेवसाइट वगैरह को मीडिया न मानने पर इसलिए उन्‍हें तत्‍काल स्‍कोर, क्लिपिंग न दिखाने देने पर वे लोग अड़े हैं।

पर जैसा कहा गया मान लेते हैं। आप ठीक ।

Pramod Singh said...

वैसे देख रहा हूं अब तलक पोस्‍ट नै हटाये हो? हद है, मसि, और पता नहीं कवन-कवन जीवी?