Monday, May 07, 2007

कंपू शहर में ब्‍लॉगर मीट

अनूपजी का निमंत्रण मिला और हमने बोरिया बिस्‍तर बांधा और जा रहे हैं कम्‍पू शहर। हमारे साथ दिल्‍ली के तमाम चिट्ठाकारों की शुभाकांक्षाओं की पोटली है अनूपजी के लिए। वहाँ हमें मिलेंगे अनूपजी (लेकिन वे उतनी फुरसत में होंगे नहीं) और विश्‍वास है राजीवजीआशीष से भी मिलना हो पाऐगा। इस तरह 8 मई को कंपू शहर में हिंदी ब्‍लॉगर मीट का मुहुर्त बनता है। हम इस शहर में पूरे पच्‍चीस सालों के बाद जा रहे हैं पर इस फुरसतिया आख्‍यान को फिर से पढ लिया है। जो चिट्ठाकार मित्र कानपुर में हैं वे संपर्क कर सकते हैं मुझे मिलकर प्रसन्‍न्‍ता होगी। तो कंपू शहर हम आ रहे हैं...

8 comments:

संजय बेंगाणी said...

हमारी शुभकामनाएं लेते जाईये.
शुभयात्रा.

Arvind said...

एसन तो भैया हमहू कनपुरिया हैँ ,पन जरा पहले से पता लग जाता तो शायद हम्हू हुइ आते अपने पुराने शहर.

झाड़े रहो कलेक्टरगंज्.
अब तो बस शुभकामनायेँ ही दय सकत हैँ.
अरविन्द चतुर्वेदी
http://bhaarateeyam.blogspot.com

Udan Tashtari said...

हमारी भी शुभकामनायें पहुँचा दिजियेगा.

Udan Tashtari said...

और हाँ ब्लॉगर मीट में मिलने वाले साथियों को उड़न तश्तरी का सलाम.

Sanjeet Tripathi said...

हमरी भी शुभकामनाएं हैं
अउर सबन को हमरा दुआ सलाम कहियेगा

काकेश said...

अरे भैया हमरा भी सलाम ले जाइये .. कम्पू शहर हमरा भी शहर रहा है .. उ चुन्नीगंज की चाय और आर्य नगर की बिरियानी हम ना भूली . और उ हमरा घंटघर है ना ..उ को भी सलाम बोलियो.

उन्मुक्त said...

हमारी भी शुभ कामनायें

masijeevi said...

तो भाई लोगन हम सबकी शुभकामनाओं की पोटली अनूपजी को दे आए हैं और एक पोटली मिठाई आपके नाम की ले आए हैं, बाल गोपाल सब खा चुके हैं।
ब्‍लॉगर मेल पर लिखेंगे अगली बार