Sunday, February 17, 2008

लीजिए अब हमारा चिट्ठा रीडायरेक्‍ट नहीं हो रहा

कल से ही लगातार संदेश आ रहे हैं कि यह चिट्ठा हर विजिटर को चिट्ठाजगत पर रीडायरेक्‍ट कर रहा है । कम से कम काकेशजी व संजय के चिट्ठों के साथ भी ऐसा होने की सूचना है, शायद कुछ और भी हों। शायद चिट्ठाजगत के उस कोड में कोई तकनीकी लोचा था जो चिट्ठे पर था। फिलहाल कोड हटा दिया है अब आप पोस्‍ट पढ पाएंगे।

चटका लगाएं

'पंकजजी परेशान हैं' तो हैं पर मसिजीवी क्‍यों परेशान हैं

3 comments:

Udan Tashtari said...

आपका आभार.अब ठीक है.

सागर नाहर said...

कल मैं भी बहुत देर परेशान हुआ, बाद में होमपेज का लिंक खोला तब जा कर खुला।

अरुण said...

ये कौन सा जुगाड है जी हमे जरूर बताये..ताकी हम भी इस जुगाड को लगाकर सभी लोगो को अपने ब्लोग पर रिडायरेक्ट कर सके इसी बहाने से ही सही कुछ लोग तो आयेगे ही ..:)