Monday, August 11, 2008

ये है सैम-इंडिया मेरी जान

जुगाड़ और रचनात्मकता हम भारतीयों के यूएसपी हैं। पश्चिमी उत्तरप्रदेश की जुगाड़गाड़ी हो यी वाशिंग मशीन का इस्तेमाल थोक में लस्‍सी बनाने के लिए करने की जुगत- हम हैरान करने से नहीं चुकते। ऐसी ही हैरानी से कल दो-चार  हुए जब एन पिज्‍जाहट के  बरोबर में पूरी लकदक के साथ उसका देसी जबाव देखा। ये था समोसा जी अपना बेचारगी भरा समोसा पर पूरे आत्‍मविश्‍वास के साथ। दिल्‍ली की एक सबसे मशहूर समोसे की दुकान पूंचकुइयॉं वालों के समोसे की है जो पिछले साठ सालों से समोसे खिलाने का दावा करती है। उसकी ही एक दुकान पर हमें ये देखने को मिला..IMG_0976

जी आपने सही पढ़ा सैमबर्गर- जिसका हैमबर्गर के बर्गर से गहरा नाता हे पर हैम से बिलकुल नहीं। हैम की जगह है सैम...बोले तो समोसा। समोसे के सैम हो जाने से हमारा परिचय बिट्स पिलानीIMG_0977 में हुआ था वहॉं समोसों को इंजीनियर-विद्यार्थी सैम कहते हैं। इन्‍हीं सैम को सैम विशेषज्ञों ने बर्गर के साथ गठबंधन कर सैमबर्गर तैयार किए हैं। ये दो वैरिएंट में पाए जाते हैं। आलू सैमबर्गर व पनीर सैमबर्गर।

  चित्र के बाद बताने की जरूरत नहीं कि बर्गर-बन में समोसा, चीज़, सलाद रखने से तैयार होने वाला सैमबर्गर वाकई दमदार चीज था। उबाऊ बर्गरों से तो बेहतर था ही। हॉं तेल इसमें काफी था। पर दाम बेहद कम हैं और इस दुकान ने पास के पिज्‍जाहट का तेल कर रखा है।

तो ये हे अपना सैमइंडिया।

 

 

अभी देखा की लाल्‍टू ने कुछ शानदार पोस्‍टें अपने ब्‍लॉग पर लिखी हैं। किसी वजह से न पढ़ पाए हों तो आप इन पोस्‍टों तक इन लिंकों से पहुँच सकते हैं-

खोजते रहो, हर जगह होमो सेपिएन्स
वॉट हैव वी डन

11 comments:

Cyril Gupta said...

बहुत ही अच्छा concept है यह सैमबर्गर. व्यापार चाहे खाने की हो, नये प्रयोग ही सफलता की कुंजी हैं. हम भी खायेंगे सैमबर्गर. और पिज्जा हट वालों जायें तेल लेने.

शोभा said...

अच्छा विचार है। कार्य रूप में परिणित करें। ः)

Udan Tashtari said...

अगली बार आप हमें सैम बर्गर खिलवाना-काहे से कि आप ही बताये हैं. :)

Sanjeet Tripathi said...

वाट एन आईडिया सर जी!

भाई साहेब, अब सैमबर्गर खाने के लिए दिल्ली आना बड़ा महंगा पड़ेगा, पार्सल कर देंगे प्लीज़ ;)

Mired Mirage said...

हा हा! इसे कहते हैं जैसे को तैसा! हमारी चीजें ही बर्गरों में लपेटकर हमें लपेटने वालों को अच्छा जवाब। अब जरा बैक्ड समोसे भी इनमें उपयोग करें तो मजा आ जाए।
घुघूती बासूती

Rajesh Roshan said...

Thats realy cool... Nice SAM...

खुली किताब said...

पढ़कर एक वाकया याद आया। दिल्ली विश्वविद्यालय में बिहार से आए छात्रों का 'हैरी' कहा जाता है। जो जानते हैं वो समझ जाते हैं। नहीं तो लगता है सामने वाला कोई धांसू बात कह रहा है। जिनके बारे में कहा जा रहा है उनका ताल्लुक किसी बड़े घराने से है। मेरी अपनी राय है कि समोसा को सैम कहकर उसकी आत्मीयता को मारने की कोशिश है।

kiran said...

pata nahin buddhijivi varg kya kya kahega tumhare samsamose par mein to itna hi kahna chahungi ki padte hi muhn mein pani aa gaya.

अभिषेक ओझा said...

अच्छा है ये सैमबर्गर तो !

जितेन्द़ भगत said...

सोच रहा हूँ फुर्सत मि‍ले तो सैमबर्गर खाने पँचकुईंया हो ही आऊँ।

जितेन्द़ भगत said...

सोच रहा हूँ फुर्सत मि‍ले तो सैमबर्गर खाने पँचकुईंया हो ही आऊँ।