Monday, December 22, 2008

दिल्‍ली में आम खपत की कला- 48° C

महानगरों में कला दिन व दिन उच्‍चभ्रू (बोले तो हाईब्रो) होती जा रही है। ऐसे में दिल्‍ली में चल रहा कला उत्‍सव 48 °C एक सुकूनदायी अनुभव है। देश विदेश के नामी गिरामी कलाकारों ने अपनी कलाकृतियॉं दिल्‍लीवासियों के लिए सामने रखी हैं लेकिन चमचमाती कलादीर्घाओं में नहीं वरन सार्वजनिक स्‍थलों पर। बेटिकट। निम्‍न स्‍थलों पर-

ScreenHunter_01 Dec. 21 17.18 

रास्‍ते में पढ़ने वाली दो जगहों पर हम कल जा धमके। ये थीं कश्‍मीरी गेट तथा रामलीला मैदान

कुल जमा छ: कलाकृतियॉं यहॉं प्रदर्शित हैं। सभी कलाकृतियॉं बड़े आकार की हैं। कलाकृतियॉं सुबोध गुप्‍ता, समित बासु, अतुल भल्‍ला, जिनी बॉस, फ्रिसो विटवीन, संजीव शंकर की हैं। इन कलाकृतियों की तस्‍वीरें उनके लिए जो दिल्‍लीवासी नहीं हैं तथा जो दिल्‍लीवासी हैं उन्‍हें चाहिए पास की किसी कलाकृति की सराहना करने के लिए जरूर जाएं।

 

कश्‍मीरी गेट पर सुबोध गुप्‍ता की कृति-

IMG_1573

 

कश्‍मीरी गेट पर ही अतुल भल्‍ला की कलाकृति 'छबील'

IMG_1576

एक अन्‍य कोण से-

IMG_1577

 

रामलीला मैदान पर संजीव शंकर की कृति- जुगाड़

IMG_1592 

 

रामलीला मैदान पर ही जिनी वॉस की कृति मिरेकल इन विटवीन

IMG_1594

 

रामलीला मैदान पर ही फ्रिसो विटवीन की कृति होकस-पॉकस

IMG_1600

एक अन्‍य कोण से-

IMG_1597

6 comments:

अनूप शुक्ल said...

अच्छा प्रयास है जी! हम लोग भी धर दें अपने ब्लागपोस्ट की प्रिंटिंग?

Ratan Singh Shekhawat said...

बहुत अच्छी जानकारी देने का सरहनीय प्रयास |

Dipti said...

ये केवल कलाकृतियाँ नहीं है, बल्कि ये आम जनता को ग्लोबल वार्मिंग के प्रति सचेत भी कर रही हैं। जुगाड़ भविष्य है लकड़ियों का और मंडी हाउस पर लगी गिद्धों की तस्वीरें याद दिलाती है विलुप्त हो चुकी इस प्रजाति को। इसके साथ ही 48c के लोग नुक्कड़ नाटकों के ज़रिए भी ये काम रहे थे।

Vivek Gupta said...

सुंदर

Rajesh Roshan said...

मसिजीवी जी जानकारी देने के लिए धन्‍यवाद.

cmpershad said...

अभी तो ४८ डिग्री है १०० दिग्री होगा तो क्या होगा। शायद कलाकार एम.एफ. हुसैन की तरह सफेद पर्दा लगाकर उस शून्यता का इज़हार करेगा!!