Thursday, April 16, 2015

तो तुम्हें कौन प्यार करेगा

अच्छा तो तुम्हें कौन प्यार करेगा
सभी कविताएं अगर हो जाएं स्वकीया
प्रेम बन जाए जेलखाना 
कह लो घर जी आए तो 
आटा गूंथती देह पर चुहचुहा आई बूंदों पर 
लुटाने के लिए 
बहुत प्यार है दुनिया के कैदखानों में 
पर कहो 
मेलोड्रामा पर तमतमा आए तन पर
सिकुड़ गई ऑंखों पर भी तो आना चाहिए न प्रेम। 
अपने नहीं कर सकते सच्चा प्रेम 
स्वकीया प्रेम पर तालाबंदी चाहिए।

2 comments:

Digamber Naswa said...

गज़ब ...
मज़ा आ गया रचना पढ़ के ...

rajesh kumar sood said...

koi bhee kisi ke bare main ye kase nirnay kar sakta hai ke koi kisi ko payar karega. jiwan ke sath he payar jud jata hai. paristhitiyo anusar esmey paribartan atta hei. payan kabhi purn nahi hota. iske koi seema nahi hai. payar aseem hai. thbi to aaj jag kayam hai.