Friday, July 20, 2007

हमने लीक की है हैरी पोटर...बोलो क्‍या करोगे

ऐसा कोई रेलवे स्‍टेशन नहीं होता जिसकी 50000 लीटर वाली टंकी धार धार लीक न हो रही हो ज्ञानदत्‍त पांडेय या लालू यादव कछउ नहीं कर पाते, ऐसा कोई टेंडर हमारे नगर निगम में नहीं खुलता जो खुलने से पहले बाबू ने लीक न कर दिया हो, ऐसी कोई पोस्‍ट नहीं जिसे लिखने के एकदम बाद सुरेश चिपूलकर खुद दनादन लीक न कर देते हों, ऐसा कोई प्रश्‍नपत्र नहीं जिसे खुद मास्‍टर लीक न कर देते हों, ऐसे में जब सारा आंवा लीकित मन हो रहा हो एक लीक पर बबाल मचाना ठीक नहीं। और लीक भी मालूम नहीं कि हुआ है कि नहीं।


पंछाह में एक लिख्‍खाड़ औरत है जे के रोलिंग, लिखती है खूब लिखती है और दनादन नोट कूटती है...डालर कूटती है, पौंड कूटती है , यूरो और येन कूटती है फिर रुपए की क्‍या बिसात है वे भी कूटे जाते हैं। अजमेर शरीफ के सालाना उर्स की तरह भीड़ जुटती है जब हैरी पुत्‍तर पर रोलिंग की किताब आती है। अब फिर से आ रही है- आने दो हमें क्‍या। सूनामी आ गई हमने रोक ली क्‍या अब ये किताब ही क्‍या कर लेगी। तो भई एक बबाल मचा हुआ है कि रोलिंग की इस किताब का क्‍लाईमेक्‍स क्‍या है। इसे एकदम सीक्रेट रखा गया है किसी को नहीं पता, प्रूफरीडर को नहीं, प्रिंटर को नहीं किसी को नहीं। तो भैया सारे इंटरनेट पर शोर है सच्‍चा हे कि झूठ्ठे ही मच रहा है लेकिन हर इंटरनेटिया गला फाड़ कर कह रहा है कि ये रही लीक...हमें पता है कि हैरी मरेगा कि बचेगा। इससे रोलिंग की दुकानदारी खराब हो रही है इसलिए वह दुखी है- उसके प्रकाशक दुखी है। आज के दिन हैरी लीक गूगल पर सबसे ज्‍यादा सर्च किया जा रहा कीबर्ड है।


बस यहीं हमें तकलीफ है अरे भई एक किताब ही है न अगले हफ्ते तक धीरज रख लो पता चल जाएगा। पर वैसे हम अंदरखाते लीक करवाने वालों की साईड में हैं, क्योंकि आज ये लीक करवाएंगे कल पाइरेटिड छापेंगे परसों हमें वह 50 रुपए में मिल पाएगी (वैसे हम तब भी खरीदेंगे कि नहीं पता नहीं अब तक तो बाकी की ही नहीं खरीदीं ) पर उसे जाने भी दें तो भी ये तो हैरानी की बात है कि एक किताब की लीक पर इतनी तकलीफ। हमारे यहॉं तो रवींद्र कालिया ने बुलाकर अपने अगले अंक के गाली विभूषित लेख को लीक किया गाली गलौच आयोजित करवाई इससे दुकानदारी बढ़ी- सच में पछांह में सब उलटा ही चल रहा है। पर इस लीक ने भारतीय लोगों के हाथ में बहुत ताकत दे दी है वे चाहें तो हैरी को मरवा दें चाहें तो बचा लें। आसान है कुछ सटोरिए अब तक लग ही गए होंगे काम पर अगर इस क्‍लाईमेक्‍स से फायदा होगा तो ये वरना वो... मैच फिक्सिंग का जमाना गया अब क्‍लाईमेक्‍स फिक्सिंग का जमाना है।



पर इंटरनेट पर इस लीक का बाजार खुद किताब के बाजार से ज्‍यादा है। अब जब सबसे ज्‍यादा खोजा ही जा रहा है 'हैरी लीक' तो पढ़ा भी जा रहा होगा और इसका मतलब हिट भी मिल रहे होंगे। अब ये हिट किसे नहीं चाहिए तो हमने भी जुगाड़ लगाकर हैरी पॉटर एंड दैथली हालोज हमने लीक करवा ली है और जैसे ही इस पोस्‍ट पर 500वां हिट होगा हम आपको इस उपन्‍यास का अंत आदि सब बता देंगे- जो लोग जानना चाहें वे या तो खुद ही इस पोस्‍ट को 500 बार पढें या 500 लोगों का जुगाड़ करें जो 1-1 बार पढें, सा सब को जाकर बता दें कि हमने ये किताब लीक कर दी है वो आकर हमसे पूछ लेंगे।


9 comments:

notepad said...

500 हिट करने लायक नही है अन्त । असलियत मुझे पता है । मै बिना हिट के बता देती हूं। अन्त मे 11पत्र मारे जाते हैं ।हैरी भी ।क्योन्कि हमारे यहा के सीरियलो का रिवाज़ है कि जब कहानी खत्म करनी हो तो पात्र को मार दिया जाता है तो अगर यह अन्तिम भाग है पोटर का तो वह मरेगा ।वैसे अपुन को क्या ?

ratna said...

बढ़िया लिखा है आपने

Sanjeet Tripathi said...

अपन नोटपैड जी से सहमत हैं। अपन ने ना तो एक हैरी पॉटर की एक भी किताब पढ़ी है ना ही फ़िलम देखी है तो अपुन क्या!!

अरुण said...

ये पोटर कौन है जी क्या कोई हैरी इसको लेकर भागने वाला है क्या..?

बोधिसत्व said...

कहाँ से लाते हैं इतनी ऊर्जा और ऐसा अच्छा गद्य

Amit said...

पर वैसे हम अंदरखाते लीक करवाने वालों की साईड में हैं, क्योंकि आज ये लीक करवाएंगे कल पाइरेटिड छापेंगे परसों हमें वह 50 रुपए में मिल पाएगी

50 में नहीं मिलेगी!! नई वाली कोई 200-350 में मिलेगी और जब उसको कोई 9-10 महीने हो जाएँगे तब भाव गिर के तकरीबन 90-100 तक आ जाएगा!! ;)

अन्त मे 11पत्र मारे जाते हैं ।हैरी भी ।क्योन्कि हमारे यहा के सीरियलो का रिवाज़ है कि जब कहानी खत्म करनी हो तो पात्र को मार दिया जाता है तो अगर यह अन्तिम भाग है पोटर का तो वह मरेगा ।

अब ध्यान देने वाली बात यह है जी कि यह हमारे यहाँ का सीरियल या उपन्यास नहीं है और हमारे यहाँ के कहानीकारों का स्टैन्डर्ड फॉलो हो यह इसलिए आवश्यक नहीं है!! ;)

रही अंतिम भाग की बात, तो इसपर मुझे फिलहाल विश्वास नहीं। J.K.Rowling "कुछ नहीं" से ब्रिटेन की सबसे रईस महिला इसी शृंख्ला के कारण बनीं, आज इतनी औकात है कि महारानी को कई बार खरीद के बेच दे(figuratively)। उन्होंने इसी शृंख्ला के साथ-२ कुछ अन्य किताबें भी लिख बेचने की कोशिश की, लेकिन खास सफलता नहीं मिली। तो मैं नहीं समझता कि वो अपनी जबरदस्त आय और शोहरत के फिलहाल इस एकमात्र स्त्रोत को स्वयं सुखा देंगी। ;)

Udan Tashtari said...

गुगल सर्च से हिट तो मिल जायेगी.

हम तो हैरी पॉटर पढ़ते नहीं तो लीक करो कि पूरी टंकी फोड़ दो, हमारे किस काम की. :)

विकास कुमार said...

waise maine picchli kitaab release hone ke pahle hi padh li thi. aur nayi waali bhi mere paas pahle se hi hai. :)

Shrish said...

अपन भी नहीं पढ़ते हैरी पुत्तर को, इसलिए अपन को भी कोई टेंशन नहीं। :)