Sunday, April 15, 2007

छा....गए हिंदी चिट्ठे - जनसत्‍ता की कवरेज

बहुप्रतीक्षित कवर स्‍टोरी आज आई और छाई। सुबह से कई फोन आ चुके हैं खास तौर पर गैर चिट्ठाकार हिंदी वालों के। यही तो मकसद था।


लेख के यूनीकोड‍ीकरण के प्रयास जारी हैं। तब तक इस धुधली छवि से काम चलाएं। कोई दयानिधान साफ छवि भी अपलोड करे तो अच्‍छा रहेगा हम तो 300 किलो पिक्‍सल के वेबकैम से ले रहे हैं।

5 comments:

जगदीश भाटिया said...

एक शानदार लेख।
बेहतर छवि के लिये यहां देखें
http://aaina2.wordpress.com/2007/04/15/jansatta/

Raviratlami said...

"...लेख के यूनीकोडीकरण के प्रयास जारी हैं। ..."

लेख को यूनिकोडीकृत कर सुबह ही भेज दिया है. नहीं मिला हो तो कृपया बताएं फिर से भेजता हूँ :)

Udan Tashtari said...

बढ़िया लेख, बहुत बधाई सबको.

Tarun said...

मसीजिवी बहुत सराहनीय प्रयास, साधुवाद

Shrish said...

बहुत शानदार लेख। जगदीश भाई का धन्यवाद इसकी इमेज उपलब्ध करवाने के लिए। लेकिन अक्सर क्या होता है कि एक बंदे ने इमेज उपलब्ध क्या कराई कि दूसरा कोई कराता ही नहीं। अरे भाई अधिक से अधिक लोग यह काम करें ताकि और बेहतर इमेजें उपलब्ध हो सकें। दूसरी बात कई इमेजों में जो नहीं पढ़ा जाता उसे दूसरे की इमेजों में पढ़ा जा सके।

लेख का यूनिकोड संस्करण जल्द से जल्द उपलब्ध कराया जाए।